• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • पौराणिक नगरी काशी महाश्मशान दशाश्वमेध घाट के सामने गंगा पार रेती पर बसा अनोखा शहर, होगा मानस मसान | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    पौराणिक नगरी काशी महाश्मशान दशाश्वमेध घाट के सामने गंगा पार रेती पर बसा अनोखा शहर, होगा मानस मसान

    वाराणसी20/10/2017(rubarudesk) @www.rubarunews.com >>  काशी के महाश्मशान मणिकर्णिका घाट के ठीक सामने गंगा पार रेती पर एक ऐसे शहर ने आकार लिया है जो अपने आप में अनूठा है। 'भक्ति महाकुंभ' के लिए बसाए गए इस शहर में देश-विदेश से आने वाले करीब 40 हजार लोग 21 अक्टूबर से नौ दिनों तक महाश्मशान पर केंद्रित संत मोरारी बापू की मानस कथा का रस लेंगे। उत्तर प्रदेश के सीएम योगी आदित्यनाथ और गुजरात के सीएम विजय रुपानी, भाजपा नेता शहनवाज हुसैन, भाजपा के प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पांडेय समेत कई मंत्री-विधायक भक्ति की गंगा में गोते लगाने पहुंचेंगे। राष्ट्रीय स्वयं सेवक प्रमुख मोहन भागवत का आना सबसे खास है।
    संत श्री मोरारी बापू की कथा 'मानस मसान' के लिए गंगा किनारे डोमरी गांव में 40 बीधे जमीन पर बना शहर राजस्थान और महाराष्ट्र के कारीगरों की बेहतरीन कारीगरी का नमूना है। यहां       आधुनिकतम सुविधाओं वाले दो सौ एसी स्वीस कॉटेज में विदेशी भक्त रहेंगे तो पांच हजार सेवादारों के लिए 9 अलग-अलग मोहल्ले बनाए गए हैं। देश के कोने-कोने से आ रहे भक्तों में कुछ तो यहीं रहेंगे, बाकी के लिए शहर के होटलों में कमरे बुक हैं। बापू का हेलिकॉप्टर उतरने के लिए हेलिपैड भी बनाया गया है। रामकथा के दौरान पूरे डोमरी कस्बे को दुल्हन की तरह सजाया जाएगा। बाबा की नगरी में बापू की यह आठवीं तथा देश-विदेश के क्रम में 800 वीं रामकथा होगी। 170 देशों में इसका सीधा प्रसारण एक चैनल द्वारा किए जाने से करोड़ों भक्त घर बैठे कथा का आनंद उठा सकेंगे।
    बापू के प्रवचन के लिए 600 गुणे 140 फीट के मुख्य पंडाल के सामने 40 फीट लंबा और 60 फीट चौड़ा मंच तैयार किया गया है। मंच पर मणिकर्णिका घाट पर जलती चिताओं के दृश्य को इस तरह उकेरा गया है, जिससे आभास होगा कि बापू महाश्मशान में मानस कथा सुना रहे हैं। इसके साथ ही उत्तरवाहिनी गंगा की बहती निर्मल धारा के बीच काशी विश्वनाथ मंदिर को चित्रित किया गया है। व्यासपीठ पर हनुमान और शिवलिंग की छवि स्थापित होगी। दिन में प्रवचन के बाद 23, 24 अक्टूबर की शाम को होने वाले सांस्कृति कार्यक्रम में अभिनेता मकरंद देश पांडेय, पुनीत इस्सर और कैलाश खेर भी आएंगे।
          दो फ्लोर वाली जिस खूबसूरत हाउस बोट में संत मोरारी बापू नौ दिनों तक रहेंगे, उसे श्रीलंका और केरल से आए खास कारीगरों ने दो महीने की मेहनत से बनाया है। इसके उपरी हिस्से में बापू का कमरा और पूजा की बेदी तो नीचे तीन रूम में भोजन और सेवादारों के रहने का इंतजाम है।
    रेती पर बसे शहर में प्रतिदिन 30 हजार से लेकर 40 हजार तक भक्तों के लिए भोजन की व्यवस्था की गई है। इसके लिए 2500 रसोइये गुजराज व अन्य जगहों से पहुंचे हैं। पाकशाला में एक साथ 800 बड़े चूल्हों पर भोजन पकेगा। कई सौ क्विंटल आटा, चावल-दाल का भंडारण है। भक्तों को नि:शुल्क भोजन प्रसाद मिलेगा।
           मानस श्रोताओं की सहूलियत के लिए गंगा किनारे जेटी लगाने के साथ विभिन्न घाटों से करीब 150 छोटी-बड़ी नावों का संचालन किया जाएगा। काशी वन्य जीव प्रभाग के जिला वन अधिकारी गोपाल ओझा के मुताबिक कथा कार्यक्रम के दौरान रामनगर बलुआ घाट से लेकर राजघाट पुल के बीच मोटरबोट के चलने पर रोक रहेगी।
         सुरक्षा की दृष्टि से दो सौ सीसीटीवी कैमरे, राजस्थान से आए 300 सुरक्षाकर्मी, नियंत्रण कक्षा और फायर ब्रिगेड स्टेशनखोया-पाया विभाग, चिकित्सा कक्षा एवं पुलिस विभाग ने अस्थाई पुलिस चौकी खोली है।@विकास राय


    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment