• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • हाथ बाँटने के लिए मिले है बटोरने के लिए नहीं: माँ कनकेश्वरी | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    हाथ बाँटने के लिए मिले है बटोरने के लिए नहीं: माँ कनकेश्वरी

    भिंड 28/नवंबर/2017 (rubarudesk) @www.rubarunews.com >>  हाथ बाँटने के लिए मिले है बटोरने के लिए नही  मांगने की बृत्ति मनुष्य  को दरिद्र बनाती है देने की बृत्ति मनुष्य को  दाता बना देती है देने की बृत्ति सम्रद्धि का आधार है। मांगने के बृत्ति दरिद्रता का आधार है। यह बात कथा व्यास परमपूज्य राष्ट्रिय सन्त माँ कनकेश्वरी देबी ने मेहगाँव विधान सभा क्षेत्र के ग्राम सुनारपुरा चौराहे पर श्रीमद् भागवत कथा का रसपान कराते  हुये कही उन्होंने कहा जो व्यक्ति धर्मात्मा है वह परिणाम की चिंता नही करता है धर्मात्मा ब्यक्ति पर सारी दुनिया प्रहार करे वह अपने मार्ग से नही भटकता है धर्मात्मा ब्यक्ति का अस्त्तिव समाप्त नही होता  ईश्वर की क्रपा उस पर हमेशा बनी रहती है। उन्होंने कहा समाज हमेशा उसी का सम्मान करता है जो दूसरों के शुख दु:ख का ख्याल रखता है हमेशा ऊँचाई पर वही ब्यक्ति पहुँचता है जो जगत की सेवा में  लगा रहता है जो व्यक्ति जगत की सेवा करते है  है भगवान उनकी सेबा करता है
                माँ कनकेश्वरी देबी जी ने आगे कहा  कि स्वार्थ के कार्य में भाग्य काम करता है परमार्थ के काम में नही भाग्य से ऊपर भगवान है इसलिए मनुष्य को हमेशा धर्म मार्ग पर चलते रहना चाहिए क्योकि जब धर्म पर प्रहार होता है   तो धर्म नही रोता है स्वयं भगवान रोते है उन्होंने  आगे कहा  कि जो महान व धर्मात्मा पुरुष होते है  वह शुख में कम दु:ख में ज्यादा प्रसन्न होते है जो ब्यक्ति दु:ख के समय में भी ईश्वर पर सन्देह नही करता है वह ईश्वर की क्रपा का अधिकारी होता है। माँ ने रामचरित मानस की चोपाई का उदाहरण देते हुए कहा कि कोऊ न काउ शुख दु:ख कर दाता निज कृत कर्म भोग सब भ्राता।
                उन्होंने कहा अगर जीबन में  दु:ख देने बाले से नफरत करोगे  तो दुखों की समाप्ति कभी नही होगी  दु:ख देने बाले से हमेशा बच के रहो उससे नफरत कभी मत करो उन्होंने आगे कहा  कि इंसान  इंसान को दु:ख पहुँचाने का प्रयास करता है  लेकिन दु:ख पहुँचा नही सकता है अगर दु:ख पहुँचता है तो उसमे आपका कर्म शामिल है।
    रासलीला का मन मोहक द्रश्य बना आकर्षण का केंद्र:
                क्षेत्र के ग्राम सुनार पुरा चौराहे पर जिला सहकारी केंद्रीय बैंक भिंड के अध्यक्ष केपी सिंह भदौरिया द्वारा अपने पिता कैलाश बासी जसमन्त सिंह भदौरिया की पुण्य स्म्रति में यह श्रीमद् भागवत कथा का धार्मिक आयोजन कराया जा रहा है कथा स्थल पर प्रति दिन बृन्दावन की रासलीला का मंचन हो रहा है। रासलीला  का  मनमोहक द्रश्य देखकर कथा स्थल पर पधारे लोग प्रसन्न चित हो जाते है  कथा स्थल पर हजारों की संख्या में साधू सन्त महिला पुरुष व बच्चे प्रति दिन प्रसादी ग्रहण कर रहे है ऐसा लग रहा है कि सुनार पुरा चोराहा मिनी बृन्दावन धाम बन गया है।
    कथा का इन्होंने लिया आनन्द:

                श्री श्री 1008 राधिका नन्द जिला सहकारी केंद्रीय बैंक के अध्यक्ष केपी सिंह भदौरिया कथा के परीक्षत सीमा रूद्र पाल सिंह भदौरिया पूर्व विधायक मुन्ना सिंह भदौरिया पूर्व विधायक मुंशीलाल खटीक  मेहगाँव मण्डी अध्यक्ष देवेन्द्र नरवरिया  युवा मोर्चा के पूर्व जिला अध्यक्ष कमल शर्मा व्योपारी प्रकोष्ट के जिलाध्यक्ष जयकुमार जैन पत्रकार, स्वदेश के ब्यूरो चीफ अनिल शर्मा पूर्व नगर परिसद अध्यक्ष अजमेर सिंह गुर्जर, अर्पित मुदगल, मेहगाँव थाना प्रभारी नरेंद्र त्रिपाठी, रामवीर सिंह भदौरिया, हाकिम त्यागी, हरिओम गुर्जरराम प्रकाश यादव, रमन सिंह भदौरियामन्नू सिंह जादोनगजेन्द्र सिंह धौलपुर, बिजेंद्र सिंह तोमर, राम  बहादुर सिंह, आशीष भदौरिया, सेलेन्द्र भदौरिया पत्रकार, मनोज शर्मा, राहुल अग्रबाल, सौरभ जैन, कमल दीक्षित, मुकेश सिंह भदौरिया के अलावा भारी संख्या में महिला पुरुष व बच्चों ने कथा स्थल पर पहुँचकर कथा का आनन्द लिया।
    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment