• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • ...नहीं किया समझौता जिसने, अपने निजी उसूलों से | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    ...नहीं किया समझौता जिसने, अपने निजी उसूलों से

    भिण्ड 31/दिसंबर/2017 (rubarudesk) @www.rubarunews.com >>  बाहर से थे पत्थर जैसे, भीतर से फूलों से, नहीं किया समझौता जिसने, अपने निजी उसूलों से। यह रचना स्वतंत्रता संग्राम सेनानी श्रीनाथ गुरू जी की पुण्यतिथि पर गायत्री नगर स्थित शांतिस्वरूप बौहरे के बाड़े में कवि सम्मेलन के दौरान गजलकार राजेश मधुकर ने पढ़ी। देशभक्ति, वीरता व सामाजिक परिवेश की कविताओं को सुनकर मौजूद श्रोताओं की आंखें गुरूजी की याद में नम हो गईं।
          कवि सम्मेलन की शुरुआत मुरैना से पधारीं संगाता तोमर की सरस्वती वंदना से हुई- तेरे चरणों में वंदन करती हूं। तेरे चरणों में वन्दन करती हूं। मैं भावों को छूकर के शब्दों को चंदन करती हूं। इसके बाद संचालन कर रहे युवा कवि अंजुम मनोहर ने अपनी ये पंक्तियां पढ़ीं- बस गए हो तुम मधुर यादों में, जिन्हें प्रकट मैं नहीं कर सकता संवादों में। डॉ. शशिबाला राजपूत ने गुरूजी के व्यक्तित्व से सराबोर गीत पढ़ कर समां बांध दिया। इसके बाद हास्य व्यंग्य के कवि डॉ. सुनील त्रिपाठी निराला ने व्यंग्यपरक रचना पढ़ी- भाषणों से भावनाओं को भुनाने आ गए। दिल जले खादी पहिनकर दिल जलाने आ गए। जिला पंचायत सदस्य सुश्री अंशू अरेले ने कहा- इंसान को भी पूजिए, धरती के पूजिए, नित अपने मां-बार के पैरों को छू जिए।

          ग्वालियर की कवियित्री अमिता शर्मा मीत ने कहा- जो न्यौछावर करे वतन पर जां वो जिम्मेदार होता है। उसे दुलियां सलाम करती है, जो बहन पर निसार होता है। इसके बाद गीताकर डॉ. शिवेन्द्र सिंह शिवेन्द्र ने ओज से परिपूर्ण मुक्तक पढ़े। उनका एक मुक्तक अपने चम्बल के जल सी रवानी नहीं, मौत से जो डरे वो जवानी नहीं, देश खारित जो जां भी न्यौछावर करे, उन से बेहतर कोई जिन्दगानी नहीं, की खूब सराहना की गई। मिहोना के हास्य व्यंग्य कवि हरीबाबू निराला ने  वे देश की सेवा कुछ इस प्रकार करते हैं, जैसे चार सांड एक खेत को चरते हैं, सहित अनेक क्षणिकाएं सुनाकर माहौल को नई दिशा दी। मिहोनी के कवि रविन्द्र शर्मा ने अपनी कविता में कहा- न पेन है, न डायरी है, न शेर है, न शायरी है। इसके बाद ग्वालियर से पधारीं कवियित्री डॉ. ज्योत्सना सिंह व ज्ञानचन्द्र जैन ने भी अपना काव्य पाठ किया। कवि सम्मेलन में अतिथियों के रूप में नागरिक सहकारी बैंक के अध्यक्ष प्रेम शर्मा, वरिष्ठ साहित्यकार व कवि डॉ. सुखदेव सिंह सेंगर, कवि रामशंकर शर्मा तथा आशुतोष शर्मा आशू ने सभी कवियों का शॉल श्रीफल व प्रशस्तिपत्र देकर सम्मान किया। कवियित्री अमिता शर्मा व कवि ज्ञानचन्द्र जैन को प्रदेश स्तरीय गुरूजी सम्मान से सम्मानित किया गया। आभार प्रदर्शन गंगाशंकर मिश्रा ने किया। कवि सम्मेलन में आयोजन समिति के अध्यक्ष जगतनारायण शर्मा एडवोकेट, रविन्द्र बौहरे, महेन्द्र बौहरे, दीपेन्द्र बौहरे, अमरेन्द्र शर्मा अन्नू एवं श्रीनाथ गुरूजी के भतीजे अमर नाथ शर्मा एवं ब्रजमोहन शर्मा के सहयोग से आयोजित कार्यक्रम में गायत्री परिवार के डॉ. सतीश चन्द्र शुक्ल, हनुमान सेना पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष नरसिंह कुमार चौबे, देवेन्द्र सिंह चौहान एडवोकेट, पत्रकार विक्रम जादौन, भाजपा किसान मोर्चा मीडिया प्रभारी कमलकिशोर शर्मा, बीके बौहरे, सूरजरेखा त्रिपाठी, अनिल भारद्वाज, राजकुमार सोनी, बालकृष्ण पचौरी, अरविन्द अरेले, अशोक जैन, विष्णु सलिल, हरिओम समाज कल्याण समिति के अध्यक्ष भरत नारायण लखेरे, शिंभू लखेरे, कृपाशंकर शर्मा, बृजमोहन शर्मा बंशीवाले, राजपाल कुशवाह, रामबहादुर शर्मा, श्यामलाल गौर, नरेन्द्र शुक्ला, चन्द्रभान जाटव सहित कई लोग मौजूद थे। 
    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment