• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • मुख्यमंत्री द्वारा सहरिया समाज में कुपोषण के विरूद्ध जंग का ऐलान | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    मुख्यमंत्री द्वारा सहरिया समाज में कुपोषण के विरूद्ध जंग का ऐलान

    श्योपुर, 25/दिसम्बर/2017 (rubarudesk) @www.rubarunews.com >>मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने श्योपुर जिले के सहरिया बाहुल्य विकासखण्ड कराहल में कुपोषण से मुक्ति के खिलाफ जंग का ऐलान करते हुए कहा कि मध्यप्रदेश सरकार कुपोषण से लड़ने के लिए प्रत्येक सहरिया परिवार की महिला सदस्य को एक हजार रूपए की राशि प्रतिमाह प्रदान करेंगी तथा परिवार के हर एक सदस्य के मान से 10 रूपए किलो मूंग की दाल उपलब्ध कराई जाएगी। उन्होंने कराहल विकासखण्ड अंतर्गत 36 करोड़ 22 लाख रूपए की लागत से कराए गए विभिन्न निर्माण कार्यों का लोकापर्ण एवं स्वीकृत कार्यों का शिलान्यास किया। 
    कराहल के माॅडल स्कूल प्रांगण में आयोजित सहरिया समाज के सम्मेलन में प्रदेश की महिला एवं बाल विकास मंत्री श्रीमती अर्चना चिटनिस, सामान्य प्रशासन और अनुसूचित जनजाति कल्याण राज्यमंत्री श्री लाल सिंह आर्य, जिले की प्रभारी मंत्री श्रीमती ललिता यादव, प्रदेश संगठन महामंत्री श्री सुहास भगत, मुरैना-श्योपुर संसदीय क्षेत्र के सांसद श्री अनूप मिश्रा, मध्यप्रदेश राज्य पशुधन एवं कुक्कुट विकास निगम भोपाल के अध्यक्ष एवं केबिनेट मंत्री का दर्जा प्राप्त श्री मुंशीलाल, श्योपुर के विधायक  दुर्गालाल विजय, जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमति कविता मीणा, उपाध्यक्ष श्रीमति सीमा जाट, पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमति गुड्डी बाई आदिवासी, पूर्व विधायक श्री बाबूलाल मेवरा, भाजपा जिला अध्यक्ष श्री अशोक गर्ग, सहरिया विकास अभिकरण के पूर्व अध्यक्ष श्री सीताराम आदिवासी, सहरिया मुक्तिमोर्चा के प्रदेश संयोजक श्री मुकेश मलहोत्रा, जनपद अध्यक्ष कराहल श्रीमति रामदासी आदिवासी, जिला पंचायत सदस्य सुश्री ममता गोरसिया, श्री कुबेर भिलाला  सहित अन्य गणमान्य नागरिक और बढ़ी संख्या में सहरिया समूदाय के लोग उपस्थित थे। 
      मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने कहा कि पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी के जन्म दिवस के शुभ अवसर पर मध्यप्रदेश सरकार द्वारा सहरिया आदिवासी समाज में से कुपोषण का कंलक मिटाने का जो संकल्प लिया गया है, उसे सरकार और समाज मिलकर पूरा करेगा। उन्होंने कहा कि मध्यप्रदेश सरकार द्वारा सहरिया जनजाति सहित अन्य अतिपिछड़ी जनजातियों के कल्याण के लिए अनेक महत्वपूर्ण निर्णय लिए गए है। जिनमें राज्य सरकार द्वारा प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के गरीब कल्याण एजेण्डा को लागू करते हुए गरीब परिवारांे को 01 रूपए किलो गेहूं, चावल और नमक मुहैया कराया जा रहा है। इसके साथ ही कुपोषण का सामना करने के लिए राज्य सरकार द्वारा सहरिया परिवारों को एक हजार रूपए की राशि प्रतिमाह पोष्टिक भोजन के लिए दिया जाएगा। इस योजना से सहरिया समाज के 43 हजार 447 परिवार लाभांवित होंगे। उन्होंने सहरिया परिवार की माताओं-बहनों से अनुरोध किया कि सरकार द्वारा प्रदान की जाने वाली इस राशि का उपयोग वे बच्चों को स्वस्थ्य और पोष्टिक भोजन उपलब्ध कराने में ही करें। 
        मुख्यमंत्री  चौहान ने आंगनवाड़ी कार्यक्रर्ताओं से भी अपेक्षा की कि वे कुपोषित बच्चों को चिहिंत करें और उन्हें पोषण पुर्नवास केन्द्रों में भर्ती कराए। सरकार ऐसे बच्चों के माताओं को भी प्रतिदिन 50 रूपए की राशि मजदूरी के एवज में प्रदान करेंगी। 
            सांसद अनूप मिश्रा ने कहा कि 25 दिसम्बर का दिन ऐतिहासिक दिन है। आज के दिन देश के यशस्वी पूर्व प्रधानमंत्री श्री अटल बिहारी वाजपेयी का जन्म हुआ है। उनकी जनहितैषी छवि को ध्यान में रखते हुए मध्यप्रदेश सरकार द्वारा सहरिया समाज को कुपोषण से मुक्ति की जंग का एलान किया गया है। सरकार इन प्रयासों को ईमानदारी के साथ लागू करेंगी। उन्होंने कराहल में महाविद्यालय की स्थापना, स्टाॅप डेम के निर्माण की मांग मुख्यमंत्री से की। 
    इससे पूर्व सहरिया समाज के प्रतिनिधि के रूप में श्री सीताराम आदिवासी और सहरिया-बैगा-भारिया मुक्ति मोर्चा के संयोजक श्री मुकेश मल्होत्रा तथा पूर्व जिला पंचायत अध्यक्ष श्रीमती गुड्डी बाई ने भी अपने विचार व्यक्त किए। 
           कार्यक्रम का शुभारंभ मुख्यमंत्री चौहान ने पंडित दीनदयाल उपाध्याय के छायाचित्र पर माल्यापर्ण व कन्यापूजन के साथ किया। 
          इस अवसर पर प्रमुख सचिव आदिम जाति कल्याण विभाग श्री एस.एन.मिश्रा, श्री जे.एन.कंसौठिया, महिला बाल विकास की आयुक्त श्रीमती जयश्री कियावत, संभागायुक्त श्री एम.के.अग्रवाल, कलेक्टर श्री पन्नालाल सोलंकी, पुलिस अधीक्षक डाॅ शिवदयाल सिहं सहित वरिष्ठ प्रशासनिक अधिकारी भी उपस्थित थे। 
          कार्यक्रम के दौरान जिले के 7560 सहरिया परिवारो को आवासीय भू अधिकार पत्र प्रदान किया गया। इसके अलावा मुख्यमंत्री श्री चैहान द्वारा इस अवसर पर 36 करोड़ 22 लाख रूपये के विकास कार्यो का लोकार्पण एवं शिलान्यास किया गया। जिसके तहत 9 करोड़ 95 लाख रूपये की लागत से कराहल मे निर्मित आईटीआई भवन, एक करोड़ रूपये की लागत से मेवाडा में निर्मित हाईस्कूल भवन, 3 करोड़ 57 लाख रूपये की लागत से कूनो वियर डैम तथा जाटखेडा में 2 करोड़ 27 लाख रूपये की लागत से निर्मित स्टाॅपडैम का लोकार्पण किया गया। इसके अलावा 3 करोड़ 07 लाख रूपये लागत के सीप नदी पर रूप नगर में पुल निर्माण, 2करोड़ 24 लाख रूपये लागत के धनायचा में खार नाले पर पुल निर्माण, बगदिया में एक करोड़ 84 लाख रूपये की लागत के बगदरी सडक निर्माण, धीरोली में एक करोड़ 60 लाख रूपये की लागत से विधुत सब स्टेशन निर्माण एवं श्योपुर में 46 लाख रूपये की लागत से निर्मित होेने वाले सामान्य सुविधा केंद्र का शिलान्यास भी किया गया। 
            कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री श्री चौहान द्वारा एनआरएलएम अतंर्गत संचालित स्वसहायता समुहो, ग्राम संगठनो को 1104.5 लाख रूपये के सीसीएल स्वीकृति वितरण, रिवालविगं फंड के रूप में 108 समुहो को 16.20 लाख रूपये, सीआईएफ फंड के रूप में 128 समुहो को 102.4 लाख रूपये, वीआरएफ के रूप में 72 समुहो को 10.80 लाख रूपये तथा 5 ग्राम संगठनो को स्टार्टअप फंड के रूप में 10 लाख रूपये की राशि का वितरण किया गया। 
    कराहल क्षेत्र और सहरिया समाज को मिली यह भी सौगातें
    कराहल जनपद मुख्यालय पर आगामी शिक्षण सत्र से महाविद्यालय की कक्षाए प्रारंभ की जाएगी।
    कराहल में साढ़े 7 करोड़ की लागत से सबरी माता के नाम से सांस्कृतिक केन्द्र और कम्युनिटी केन्द्र स्थापित होगा। 
    अनुसूचित जनजाति के बच्चों की उच्च शिक्षा हेतु ग्वालियर एवं इंदौर में 17 करोड़ 20 लाख की लागत से हाॅस्टल निर्माण।  
    शिवपुरी एवं कराहल (श्योपुर) में सहरिया जनजाति के बच्चों के लिए कम्प्यूटर प्रशिक्षण केन्द्र शुरू होगा। 
    सहरिया जनजाति के कक्षा 12वीं उत्तीर्ण युवाओं को पुलिस भर्ती में लिखित परीक्षा में छूट मिलेगी। 
    आदिवासी की जमीन को गैर आदिवासी नहीं खरीद सकेगा। 
    सहरिया जनजाति के ऐसे भाई-बहन जो कच्चे मकानों में रह रहे हे, उन्हें मार्च 2018 तक 22 हजार पक्के मकान बनाए जाने हेतु सहायता दी जाएगी। 
    286 सहरिया भाषा के भाषाई शिक्षकों की नियुक्ति की जाएगी।
    कक्षा 12वीं उत्तीर्ण सहरिया जनजाति की छात्राओं को एएनएम का निःशुल्क प्रशिक्षण प्रदाय किया जाएगा। 
    आदिवासी टोले-मजरे एवं गांव में 2018 के अंत के बिजली की लाईन बिछाकर निःशुल्क विद्युत कनेक्शन दिए जाएगें। इसके लिए 123 करोड़ रूपए की राशि को मंजूरी दी जाएगी।
    10 हजार सहरिया बच्चों को आईटीआई का प्रशिक्षण प्रदाय कर उन्हें कौशल प्रदाय किया जाएगा। जिससे सरकारी नौकरी के अलावा निजी क्षेत्र में भी रोजगार प्राप्त कर सके।
    वनाधिकार के पट्टेधारी आदिवासियों को खाद एवं बीज की भी सुविधा उपलब्ध कराई जाएगी और भावांतर भुगतान योजना का भी लाभ दिया जाएगा। 
    कराहल क्षेत्र में स्टाॅप डेमों के निर्माण के लिए 3 करोड़ 74 लाख रूपए दिए जाएगें। 
    2018 तक श्योपुर जिले के सभी आवासहीन 38 हजार परिवारों को आवासीय पट्टे उपलब्ध कराए जाएगें।
    अशोकनगर जिले में करीला माता मंदिर परिसर में सीता माता के मंदिर के निर्माण हेतु एक करोड़ रूपए की राशि प्रदाय की जाएगी।  
    मुख्यमंत्री ने दिलवाए छह संकल्प
    अपने उद्बोधन के दौरान मुख्यमंत्री श्री शिवराज सिंह चैहान ने सहरिया समुदाय के लोगों को उनके आर्थिक, सामाजिक विकास के लिए छह संकल्प भी दिलवाए। 
    1. नशा मुक्त समाज का निर्माण कराएगें। 
    2. बेटा-बेटी को पढ़ाएगें-लिखाएगें। 
    3. कुपोषित बच्चों को पोषण पुर्नवास केन्द्र अवश्य भेजेंगे। 
    4. बेटे-बेटियों की शादी बाल्यावस्था में नहीं करेंगे।
    5. अपनी जमीन नहीं बेंचेगे। 
    6. राशनकार्ड किसी को भी नहीं देंगे। 
    सहरिया समुदाय ने वनोपज से तौलकर किया मुख्यमंत्री का सम्मान
    सम्मेलन के उपरांत सहरिया समुदाय के लोगों ने सहरिया-भारिया-बैगा मुक्ति मोर्चा के संयोजक श्री मुकेश मल्होत्रा के नेतृत्व में कराहल क्षेत्र में पैदा होने वाली वनोपजों से तौलकर मुख्यमंत्री को सम्मानित किया। उल्लेखनीय है कि सहरिया समुदाय इन्हीं वनोपजों के माध्यम से अपना जीवन यापन करता है।


    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment