• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • डिजिटल बाजार से पारदर्शिता में वृद्धिÓ - जिला रसद अधिकारी | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    डिजिटल बाजार से पारदर्शिता में वृद्धिÓ - जिला रसद अधिकारी


    बून्दी24/12/2017 (KrishnaKantRathore) @www.rubarunews.com >> राष्ट्रीय उपभोक्ता दिवस के उपलक्ष में रविवार को यहां कलक्टे्रट सभागार में 'उभरता डिजिटल बाजार, समस्याएं और चुनौतियांÓ विषय पर जिला रसद अधिकारी संदीप माथुर की अध्यक्षता में संगोष्ठी का आयोजन किया गया।
            संगोष्ठी में विचार व्यक्ते करते हुए करते हुए जिला रसद अधिकारी संदीप माथुर ने कहा कि डिजिटल लेन देन से पारदर्शिता में वृद्धि होती है। आम नागरिकों को उपभोक्ता कानूनों की जानकारी होना जरूरी है। उपभोक्ता संबंधी अधिकारों का उल्लंघन होने पर आगे आकर उपभोक्ता फोरम मे अपनी शिकायत अवश्य दर्ज करानी चाहिए। समाज में ऐसा वातावरण बनाए कि उपभोक्ता अपनी तकलीफों को छिपाए नहीं, बल्कि आगे आकर अपने अधिकारों के लिए लड़े। उन्होंने कहा कि बढ़ते डिजिटल बाजार के युग में उपभोक्ताओं को थोड़ा सर्तक रहने की आवश्यकता है। उपभोक्ता की सर्तकता उसे किसी भी तरह की ठगी और नुकसान से बचा सकती है।  
          उन्होंने कहा कि बढ़़ते डिजिटल बाजार के समय में उपभोक्ता के हितों को सबसे ऊपर मानते हुए उन्हें राहत देने के लिए प्रयास करने होंगे। तेजी बढ़ रहे डिजिटल बाजार में उपभोक्ता को मजबूती देने के लिए कदम उठाए जा रहे है। उपभोक्ताओं को अच्छी चीज मिले और उनके अधिकारों को हर स्तर पर संरक्षण मिले, तभी यह मिशन सार्थक होगा। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली में पॉस मशीन से राशन सामग्री वितरण से सिस्टम में पारदर्शिता आई है और आम आदमी और उपभोक्ताओं को उनका हक मिला है।  
           संगोष्ठी में विचार व्यक्त करते हुए एडवोकेट राजकुमार दाधीच ने कहा कि आने वाला समय डिजिटल बाजार का होगा। इसके लिए डिजिटल साक्षरता भी बहुत जरूरी है। उपभोक्ताओं को और अधिक जागरूक होने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि वर्तमान में सभी व्यक्ति किसी ना किसी रूप में उपभोक्ता है और किसी ना किसी तरह से डिजिटल बाजार से संबंध रखता है। इसलिए उपभोक्ताओं को डिजिटल मार्केटिंग के प्रति जागरूक बनाने के लिए संचालित कार्यक्रमों का व्यापक प्रचार प्रसार हो, ताकि आमजन जागरूक हो सके। उन्होंने कहा कि डिजिटल बाजार से आज कोई भी व्यक्ति घर बैठे किसी भी वस्तु या सेवा का लाभ आसानी से ले सकता है और इससे डिजिटल मार्केटिंग की डिमाण्ड बढ़़ी है। 
            उन्होंने बताया कि डिजिटल बाजार से कुछ समस्याएं भी सामने आई हैं, जिनमें माल की गुणवत्ता, विश्वसनीयता, भ्रामक विज्ञापन से गुमराह करना, वस्तुओं की मात्रा व उनकी साइज व वस्तुओं के ट्रायल की समस्या, ऑर्डर की हुई वस्तु कब तक प्राप्त होगी, वस्तु के वापसी करने की समस्या आदि शामिल हैं। 
            प्रोफेसर रमेश मीणा ने कहा कि डिजिटल बाजार से जुडऩे के लिए मोबाइल एक बेहतर माध्यम है। बस में इसमें थोड़ी सतर्कता बरतने की आवश्यकता है। उन्होंने डिजिटल लेन देन से पारदर्शिता में वृद्धि हुई है, जो उपभोक्ताओं के लिहाजा से अच्छी बात हैै। ग्रामीण स्वावलंबी प्रशिक्षण संस्थान संयोजक यज्ञदत्ता शर्मा ने कहा कि डिजिटल बाजार की भारत में अभी शुरूआत हुई है। इसके लिए आम उपभोक्ता को इसके बारे में व्यापक जानकारी होना भी जरूरी है। आमजन भी एक दूसरे को डिजिटल बाजार से सामग्री अथवा सेवा प्राप्त करने संबंधी जानकारी आपस में बांटे।  
             खाद्य निरीक्षक गिरिराज शर्मा ने कहा कि डिजिटल शब्द पारदर्शिता का द्योतक है। डिजिटल बाजार बढऩे से पारदर्शिता बढ़ी है। निजी क्षेत्र में कई तरह की समस्याएं भी है। इसके लिए डिजिटल साक्षरता को बढ़ावा मिलना चाहिए। उन्होंने बताया कि सरकार स्तर से भी जागरूकता के प्रयास किए जा रहे है। सेवानिवृत वरिष्ठ अध्यापक रामस्वरूप मालव ने कहा कि उपभोक्ता जागरूक रहे और अपने अधिकारों को जानते हुए कर्तव्यों का निर्वहन करें। संगोष्ठी में डिजिटल बाजार के बढ़ते दायरे और आने वाली समस्याओं पर वक्ताओं ने विचार रखे।  
              इस अवसर पर प्रवर्तन निरीक्षक अदिति जगरवाल, प्रवर्तन निरीक्षक  मुरारी लाल श्रीमाली, महकरण सिंह, मॉं सरस्वती भारत गैस की प्रीति जाजोरिया, दुर्गालाल शर्मा, राशन विके्रता संघ जिलाध्यक्ष संतोष जिंदल आदि उपस्थित रहे। 




    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment