Powered by Blogger.

उच्च न्यायालय ने कलेक्टर दतिया को पूर्व के आदेशों का अक्षरशः पालन के लिए आदेशित किया

दतिया 12/01/2018 (RamjisharanRai) @www.rubarunews.com >>  - उच्च न्यायालय के आदेश की अवहेलना पर कलेक्टर दतिया को उच्च न्यायालय ने 120 दिन की मोहलत देते हुए आदेशित किया है कि वह पूर्व में दिये आदेशों का अक्षरशः पालन करें। साथ ही की गई कार्यवाही से उच्च न्यायालय को अवगत कराएँ।
            मालूम हो कि वीर सिंह बुन्देला ने अपने पुत्र भगवान राय को दतिया का प्रथम शासक बनाया था। भगवान राय के पुत्र शुभकरन बुन्देला जब दतिया के शासक बने तब उन्होंने पहले तालाब की नींव रखी। तालाब का नाम करनसागर रखा गया। करनसागर तालाब लगभग 250 से 300 एकड़ में फैला हुआ था। शुभकरन बुन्देला ने सन 1640 से 1678 तक राज किया। शुभकरन के बाद रामचंद्र बुन्देला ने रामसागर तालाब बनवाया। रामचंद्र का कार्यकाल सन 1707 से 1733 था। राजा रामचंद्र बुन्देला की मृत्यु के बाद रामचंद्र की पत्नी रानी सीताजू बुन्देला ने सीतासागर तालाब बनवाया था जिसका क्षेत्रफल लगभग 800 एकड़ था।
          दतिया के तीन वकीलों राजेश पाठक, गणेश पाण्डेय तथा दीपू शुक्ला की जनहित याचिका पर 14 सितम्बर 2015 को उच्च न्यायालय ग्वालियर ने आदेश दिया कि वह एक बार फिर अपना पक्ष कलेक्टर दतिया के समक्ष रखें तथा कलेक्टर दतिया को आदेश दिया कि वह 45 दिन के अन्दर जनहित याचिकाकर्ताओं को सुने और सीतासागर तालाब पर हुए सभी अतिक्रमण को हटाकर कर मूर्तरूप में लाएँ।
Share on Google Plus

About Rubaru News

This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
    Blogger Comment
    Facebook Comment

0 comments:

Post a Comment