• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • गंगाजल लेकर आए कांवडिय़े शिवलिंग का किया जलाभिषेक | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    गंगाजल लेकर आए कांवडिय़े शिवलिंग का किया जलाभिषेक

    भिण्ड 13/फरवरी/2018 (rubarudesk) @www.rubarunews.com>> शिवरात्रि के पावन पर्व पर जिले भर के शिव मंदिरों में भक्तों के द्वारा श्रृंगीरामपुर से गंगाजल लाकर शिवलिंग का अभिषेक किया गया। शहर के प्राचीन वनखंडेश्वर मंदिर को भव्य सजाकर तैयार किया गया था, जिसमें हजारों कांवडिय़ों तथा शिवभक्तों ने पहुंचकर पूजा अर्चना की। मंदिर से माधवगंज हाट तक कांवडिय़ों की लाइन लगी हुई थी। शाम के समय शहर में भगवान भोलेनाथ की भव्य बारात निकाली गई जिसका शहर वासियों ने जगह-जगह स्वागत कर बारात का आनंद लिया।
                प्रसिद्ध शिव मंदिर वनखंडेश्वर को मंदिर प्रबंधन के द्वारा आकर्षक रूप में सजाया गया था, तथा कांवडिय़ों के लिए विशेष व्यवस्था की गई थी। सोमवार देर रात से ही मंदिर में कांवडिय़ों ने आना आरंभ कर दिया था जिसके चलते रात 12 बजते ही कांवडिय़ों के लिए मंदिर में प्रवेश आरंभ हुआ और मंदिर के पुजारी के द्वारा विधि विधान के साथ गंगाजल से अभिषेक कराया गया भक्तों ने फूल, बेलपत्र, धतूरा, भांग आदि से पूजा अर्चना संपन्न की। कांवडिय़ों की संख्या अधिक होने के कारण लाइन माधव गंज हाट से आगे तक पहुंच गई थी। शिवरात्रि के अवसर पर सभी शिव मंदिरों में भक्तों की जमकर भीड़ हुई और सभी मंदिरों में भगवान भोलेनाथ के जयकारे सुनाई दे रहे थे। शहर के वनखंडेश्वर मंदिर के साथ-साथ गौरी सरोवर स्थित कालेश्वर मंदिर, बीटीआई रोड स्थित अद्र्धनारेश्वर मंदिर, छौलियाना स्थित शिव मंदिर, अटेर रोड स्थित मठी मंदिर, इटावा रोड स्थित कुंडेश्वर मंदिर, हैवतपुरा स्थित पचपेडऩ मंदिर पर दिनभर भक्तों की भीड़ दिखाई दी। कुछ शिवभक्तों के द्वारा आज भी शिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा जिसके चलते आज भी मंदिरों में भक्तों की भीड़ होने की संभावना है।
    शिव की बारात में शहर बना बाराती
             प्रतिवर्ष शिवरात्रि के पावन पर्व पर शिवभक्तों के द्वारा शिव बारात का आयोजन किया जाता है। इस बार भी शिव बारात का आरंभ गौरी सरोवर स्थित कालेश्वर मंदिर से किया गया। शिवजी की पालकी को दूल्हे के भेष में लालबत्ती में सवार किया गया था। सबसे आगे दूल्हे राजा उसके पीछे अन्य आकर्षक झांकियों में शिवगण अपने आराध्य देव की बारात में आनंद पूर्वक नाचते गाते हुए जाते दिखाई दे रहे थे। शिव बारात कालेश्वर मंदिर से धर्मपुरी रोड होती हुई लश्कर रोड, परेड चौराहा, सदर बाजार, गोल मार्केट, हनुमान बजरिया, किला होती हुई  वनखंडेश्वर मंदिर पर पहुंची। जहंा पर भक्तों के द्वारा महाआरती का आयोजन किया गया। इसके साथ ही शहर में लगभग एक सैंकड़ा स्थानों पर शिव बारात का भव्य स्वागत करने का प्रबंध तथा प्रसाद वितरण किया गया।
    पुलिस रही मुस्तैद:
            शिवरात्रि के पर्व पर मंदिर तथा शहर में भीड़ जमा होने लगती है जिसको देखते हुए पुलिस प्रशासन के द्वारा नगर के प्रसिद्ध शिवमंदिरों तथा अन्य स्थानों पर पुलिस बल तैनात किया गया था। वनखंडेश्वर मंदिर के चारों तरफ पुलिसकर्मी मौजूद थे जिनके द्वारा व्यवस्था बनाते हुए कई जगह भारी वाहनों का आवागमन बंद कर दिया गया था तथा भक्तों को वैकल्पिक मार्ग सुझाए जा रहे थे। शिव बारात में भी पुलिसकर्मी अपनी पैनी नजर गड़ाऐ हुए थे।
    श्रृंगीरामपुरा से लाते हैं गंगाजल:

          उल्लेखनीय है कि शिवभक्तों के द्वारा भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए  करीब 200 किलोमीटर दूर उत्तरप्रदेश के श्रृंगीरामपुर स्थित गंगा नदी से जल भरकर कांवड़ में लाते हैं जिससे शिवलिंग का अभिषेक किया जाता है। भक्तों के द्वारा कांवडिय़ों का स्वागत करने के लिए इटावा रोड से ही विश्राम तथा स्वल्पाहार पंांडालों की व्यवस्था की गई थी। इन पांडालों में फल, मिठाई के अलावा आवश्यक दवाऐं भी कांवडिय़ों को उपलब्ध कराई जा रही थीं। 
    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment