• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण की बैठक : सदस्यों ने किया डॉ. रमन सिंह का अभिनंदन | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    मुख्यमंत्री की अध्यक्षता में अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण की बैठक : सदस्यों ने किया डॉ. रमन सिंह का अभिनंदन

    रायपुर 19/फरवरी/2018 (rubarudesk) @www.rubarunews.com>> मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह ने कहा है कि राज्य के सभी 633 भवन विहीन छात्रावासों और आश्रम शालाओं के लिए लगभग एक हजार 049 करोड़ रूपए की लागत से भवनों का निर्माण युद्धस्तर पर किया जाएगा। इसके लिए राष्ट्रीय कृषि एवं ग्रामीण विकास बैंक (नाबार्ड) और जिला खनिज न्यास निधि (डीएमएफ) सहित अन्य मदों से राशि की व्यवस्था की जा रही है। डॉ. सिंह ने आज शाम यहां विधानसभा परिसर स्थित नवीन समिति कक्ष में अनुसूचित जाति विकास प्राधिकरण की 22वीं बैठक में यह जानकारी दी।
    डॉ. सिंह की अध्यक्षता में बैठक में प्राधिकरण की राशि से विभिन्न जिलों में स्वीकृत और निर्माणाधीन कार्यों की विस्तृत समीक्षा की गई। सदस्यों ने अनुसूचित जाति और जनजाति वर्ग के 27 समुदायों के नामों में उच्चारण विभेद को मान्य करने के ऐतिहासिक फैसले के लिए और विगत राज्योत्सव 2017 में राष्ट्रपति श्री रामनाथ कोविंद गिरौदपुरी धाम आमंत्रित कर उनके हाथों विशाल सामुदायिक भवन का शिलान्यास करवाने के लिए मुख्यमंत्री डॉ. रमन सिंह के प्रति आभार प्रकट किया। सदस्यों ने इसके लिए मुख्यमंत्री का अभिनंदन भी किया। प्राधिकरण के सदस्यों ने कहा कि अनुसूचित जनजाति के 22 और अनुसूचित जाति वर्ग के पांच समुदायों के जातिगत नामों में वर्तनी और उच्चारण संबंधी विभेदों को मान्य करने पर जाति प्रमाण पत्र बनवाना बहुत आसान हो गया है। इससे लाखों लोगों को और विशेष रूप से छात्र-छात्राओं को काफी राहत मिली है।
    बैठक में बताया गया कि वर्ष 2004 में गठित इस प्राधिकरण की विभिन्न बैठकों में जनप्रतिनिधियों से प्राप्त प्रस्तावों के आधार पर  अब तक 444 करोड़ 85 लाख रूपए के ग्यारह हजार 364 निर्माण और विकास कार्य मंजूर किए जा चुके हैं। इनमें से अब तक दस हजार 650 कार्य पूर्ण कर लिए गए हैं। प्राधिकरण की बैठकों में प्रारंभ से अब तक 93 महत्वपूर्ण और नीतिगत निर्णय लिए गए। इनमें से 86 निर्णयों का अमल पूर्ण कर लिया गया है। प्राधिकरण की राशि से मिनी माता स्वावलंबन योजना के तहत एक हजार 920 युवाओं को स्व-रोजगार और प्रशिक्षण सहायता देने के लिए 27 करोड़ 88 लाख रूपए मंजूर किए गए। इसी कड़ी में प्राधिकरण की स्थापना से अब तक तीन हजार 788 किसानों के सिंचाई पम्पों को बिजली का कनेक्शन देने के लिए 25 करोड़ 64 लाख रूपए स्वीकृत किए गए। इनमें से तीन हजार 720 सिंचाई पम्पों का विद्युतीकरण किया जा चुका है। मिनी माता स्वावलंबन योजना के तहत चालू वित्तीय वर्ष 2017-18 को मिलाकर विगत तीन वर्षों में 600 युवाओं को स्व-रोजगार स्थापना के लिए दस करोड़ 62 लाख रूपए की धनराशि मंजूर की गई। इस राशि से उनके लिए दुकानों का निर्माण किया गया। इनमें से वर्ष 2015-16 में 216, वर्ष 2016-17 में 30 हितग्राहियों ने स्वयं का व्यवसाय शुरू कर दिया है। मुख्यमंत्री ने जनप्रतिनिधियों से प्राधिकरण क्षेत्र में आवश्यक निर्माण कार्यों के प्रस्ताव जल्द से जल्द भेजने का अनुरोध किया। उन्होंने कहा कि ये प्रस्ताव अगले 15 दिनों के भीतर दे दिए जाएं, ताकि उन्हें प्राधिकरण के बजट में शामिल किया जा सके।  
    बैठक में गृह, जेल और लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी मंत्री श्री रामसेवक पैकरा, खाद्य और नागरिक आपूर्ति मंत्री श्री पुन्नूलाल मोहले, आदिम जाति और अनुसूचित जाति विकास मंत्री श्री केदार कश्यप, पर्यटन, संस्कृति और सहकारिता मंत्री श्री दयालदास बघेल, महिला एवं बाल विकास तथा समाज कल्याण मंत्री श्रीमती रमशीला साहू, प्राधिकरण के उपाध्यक्ष और विधायक डॉ. सनम जांगड़े, रायपुर के लोकसभा सांसद श्री रमेश बैस, बिलासपुर के लोकसभा सांसद श्री लखन लाल साहू, दुर्ग के लोकसभा सांसद श्री ताम्रध्वज साहू, राज्यसभा सांसद डॉ. भूषण लाल जांगड़े, संसदीय सचिव और विधायक पामगढ़ श्री अम्बेश जांगड़े, अहिवारा के विधायक राजमहंत श्री सांवलाराम डाहरे, आरंग के विधायक श्री नवीन मारकण्डेय, सरायपाली के विधायक श्री रामलाल चौहान, डोंगरगढ़ की विधायक श्रीमती सरोजनी बंजारे, सारंगढ़ की विधायक श्रीमती केराबाई मनहर और अंत्यावसायी सहकारी वित्त एवं विकास निगम के अध्यक्ष श्री निर्मल सिन्हा सहित अन्य संबंधित जनप्रतिनिधि उपस्थित थे। उनके अलावा प्रदेश सरकार के मुख्य सचिव श्री अजय सिंह, कृषि विभाग के अपर मुख्य सचिव श्री सुनील कुजूर, वित्त विभाग के प्रमुख सचिव श्री अमिताभ जैन, पुलिस महानिदेशक श्री ए.एन. उपाध्याय, प्राधिकरण के सदस्य सचिव श्री सुबोध कुमार सिंह, राजस्व विभाग के सचिव श्री एन.के. खाखा, विशेष सचिव आदिम जाति एवं अनुसूचित जाति विकास विभाग श्रीमती रीना बाबा साहेब कंगाले, विशेष सचिव जनसम्पर्क श्री राजेश सुकुमार टोप्पो, रायपुर और दुर्ग संभागों के कमिश्नर श्री बृजेश मिश्रा, बिलासपुर संभाग के कमिश्नर श्री त्रिलोक महावर तथा अन्य संबंधित वरिष्ठ अधिकारी भी बैठक में मौजूद थे।



    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment