• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • अब कोख में नहीं मारी जाऐंगी बेटियां......... | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    अब कोख में नहीं मारी जाऐंगी बेटियां.........


    बून्दी,14/सितम्बर/2018 (KrishnakantRathore) @www.rubarunews.com>>  शुक्रवार जिले की 56 ग्राम पंचायतों में डाटर्स आर प्रिसियस (डैप) जागरूकता कार्यक्रमों का आयोजन किया गया। जिसमे ग्राम पंचायत भवनों में आयोजित बेटी पंचायत में आमजन ने भागीदारी कर बेटियों को कोख में नही मारने की कसम खाई। जिला पीसीपीएनडीटी समन्वयक राजीव लोचन गोतम ने बताया कि चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग की ओर से आयोजित होने वाले इस आयोजन में जिले के 5 खण्डों मे 56 पंचायतो पर महिलाओं बच्चों सहित आमलोगों ने भागीदारी की। जिसमे बून्दी में जिले में कुल 6879 लोगो ने बेटी पंचायत में भागीदारी कर बेटियां नही मारने का संकल्प दोहराया। जिला पीसीपीएनडीटी समन्वयक गोतम ने बताया कि चिकित्सा विभाग की ओर से तैयार डेपरक्षको ने पीपीटी वीडियो के माध्यम से लोगो को बेटियों को कोख में मारने के कारणों जैसे वंश चलाने, विरासत सम्भालने, मुखाग्नि से मोक्ष के लिये, बुढ़ापे का सहारा आदि अतार्किक कारणों को गिनाते हुए इनकी वास्तविकता से परिचय करवाया। डेपरक्षको ने बतलाया कि सरकार ने इस दिशा में काम करने में कोई कसर नही छोड़ी है। मुखबिर योजना में एक लिंग जांच के केस को पकड़वाने के लिये 2.5 लाख रुपये का इनाम देती। अब वक्त आ गया है कि इस गन्दे काम को बंद किया जाये। जो इस काम मे लिप्त है उन्हें सलाखों के पीछे डाला जाए। जिला आईईसी समन्वयक अस्मा खान ने डेप बेटी पंचायत में पहुंच कर प्रजेंटेशन दिया साथ ही उन्होने बताया कि सितम्बर माह पोषण अभियान के रूप मे मनाया जा रहा है इसके तहत बेटी पंचायत के साथ साथ  पोषण अभियान का उद्देश्य सेवा सुनिश्चित एवं टेक्नोलॉजी के उपयोग से कार्रवाई करना, व्यवहार में परिवर्तन लाना तथा अगले कुछ वर्षों में निगरानी के विभिन्न मानकों के अनुसार निर्धारित लक्ष्य हासिल करने के बारे मे बताया गया। जिला पीसीपीएनडीटी समन्वयक राजीव लोचन गोतम ने बताया कि बेटी पंचायत का आयोजन जिले की सभी 183 ग्राम पंचायत स्थित अटल सेवा केंद्रों पर आयोजित होंगे अगला चरण 25 सितम्बर को आयोजित होगा। बेटी पंचायत के माध्यम से आमजन तक यह संदेश पहुंचाया गया है कि रोशनी चिरागों से नहीं बेटीयां भी घर में उजाला करती है वह बुलंदीयों को छूकर अपने माता-पिता, समाज के साथ पूरे देश का नाम हर क्षेत्र में रोशन कर रही है। समाज में बेटीयों का मान रखना बहुत जरूरी है। 
    हमारी मजबूत बच्चियों को कमजोर बना रही है पूरानी मान्यताऐं : डेप रक्षक 

             बेटी पंचायत कार्यक्रम के अन्तर्गत चिकित्सा विभाग द्वारा ग्रामीणों को रोचक ढंग से बेटीयों द्वारा किये जा रहे उल्लेखनीय कार्यों एवं किर्तीमानों से अवगत करवाकर यह बताया कि बेटीयों को हमें सम्मान देने चाहिऐ एवं पूरानी मान्यताओं को अब छोडना चाहिऐं बेटीयां क्यों अनमोल होती है कि जानकारी विस्तार से दी गयी। और उन्हें बताया कि जब कभी भी हमारे घर में, पडोस में नन्हीं बच्ची जन्म ले तो उसे प्यार अवश्यक दे क्योंकि समाज में बेटीयां नहीं हांगी तो यह समाज केसे चलेगा और पूरूषों के साथ महिलाओं को भी इस पर चिंतन करना होगा क्योंकि सबसे पहले बदलाव घर पर ही लाना है और जब यह सोच जाग्रत हो जाएगी तो बेटियों का कोख में कत्ल नहीं होगा। 
                                               यहां आयोजित किये गये बेटी पंचायत कार्यक्रम 

             जिले की 56 ग्राम पंचायतों में डॉटर्स आर प्रिशियस के तहत् बेटी पंचायत कार्यक्रम  आयोजित किये गये जिनमें  लोगों ने शिरकत की अजेता,अन्थडा, उलेडा, लोईचा, गरडदा, चडी, सूनगर, आकोदा, दबलाना, देहित, रजलावता आदि पंचायतों पर बेटी पंचायत का आयोजन किया गयां। 
               मुख्य चिकित्सा एवं स्वास्थ्य अधिकारी डॉ0 जीएल मीणा ने बताया की बेटी पंचायत के अन्तर्गत जिले की 56 पंचायतों पर कन्या भू्रण हत्या रोकने के लिये ग्रामीणों को शपथ दिलवाई तथा प्रश्नोत्तरी प्रतियोगिता का आयोजन कर विजेताओं को पुरूस्कार भी प्रदान किये गये ग्राम वसियों ने डेप रक्षक बन बेटी बचाने में अपना पूर्ण सहयोग देने की बात कही।


    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment