• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • चुनावी तैयारियों का असर शुरू, जिले में धारा 144 हुई लागू....... | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    चुनावी तैयारियों का असर शुरू, जिले में धारा 144 हुई लागू.......


    बूंदी, 9/अक्टूबर/2018 (KrishnaKantRathore) @www.rubarunews.com>> विधानसभा आम चुनाव, 2018 शांतिपूर्वक, स्वतंत्र, निष्पक्ष एवं सुव्यवस्थित ढंग से सम्न्न कराने की दृष्टि से जिला निर्वाचन अधिकारी एवं जिला मजिस्टे्रट महेश चन्द्र शर्मा ने एक आदेश जारी कर दण्ड प्रक्रिया संहिता 1973 की धारा 144 के अन्तर्गत प्रदत्त शक्तियों का प्रयोग करते हुए बूंदी जिले में 8 अक्टूबर की मध्यरात्रि से निषेधाज्ञा लागू की है। यह आदेश आगामी आदेशों तक प्रभावी रहेगा। 
               निषेधाज्ञा के दौरान कोई भी व्यक्ति किसी भी प्रकार का विस्फोटक पदार्थ, रासायनिक पदार्थ, आग्नेय अस्त्र-शस्त्र जैसे रिवाल्वर, पिस्टल, बंदूक, एम.एल.गन, बी.एल.गन आदि एवं अन्य हथियार जैसे गण्डासा, फर्सी, तलवार, भाला, कृपाण, चाकू, छुरी, बर्छी, गुप्ती, कटार, धारिया, बाघनख (शेर पंजा), जो किसी धातु के शस्त्र के रूप में बना हो आदि तथा विधि द्वारा प्रतिबंधित हथियार और मोटे घातक हथियार जैसे लाठी आदि सार्वजनिक स्थान पर धारण कर न तो घूमेगा और न ही प्रदर्शन करेगा और न ही साथ लेकर चलेगा। बूंदी जिले से बाहर का कोई भी व्यक्ति बूंदी जिले की सीमा में उपरोक्त तरह के हथियारों को अपने साथ नहीं लाएगा और ना ही सार्वजनिक स्थानों पर प्रयोग या प्रदर्शन करेगा। 
                यह आदेश ड्यूटी पर तैनात सीमा सुरक्षा बल, राजस्थान सशस्त्र पुलिस बल, राजस्थान सिविल पुलिस, चुनाव ड्यूटी में मतदान दलों में तैनात अधिकारियों, कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा। सिक्ख समुदाय के व्यक्तियों को धार्मिक परम्परा के अनुसार निर्धारित कृपाण रखने की छूट होगी। शस्त्र अनुज्ञापत्र नवीनीकरण के लिए आदेशानुसार शस्त्र निरीक्षण करवाने अथवा शस्त्र पुलिस थाने में जमा करवाने के लिए ले जाने पर आदेश लागू नहीं होगा। इसके अलावा दिव्यांग एवं बीमार व्यक्ति जो बिना लाठी के सहारे नहीं चल सकते, लाठी, बैसाखी का उपयोग चलने में सहारा लेने के लिए कर सकेंगे। राष्ट्रीय राईफल एसोसियेशन के वहन सदस्य जो प्रतियोगिता की तैयारी एवं भाग लेने जा रहे हैं उन पर भी यह आदेश लागू नहीं होगा। 
                कोई भी व्यक्ति संबंधित उपखण्ड मजिस्टे्रट की स्वीकृति के बिना किसी भी सार्वजनिक स्थल पर कोई भी जुलूस, सभा, धरना, भाषण आदि का आयोजन नहीं करेगा एवं न ही संबंधित उपखण्ड मजिस्टे्रट की पूर्व अनुमति के बिना ध्वनि प्रसारण यंत्र का प्रयोग किसी जाएगा। ध्वनि प्रसारण यंत्र के लिए अनुमति संबंधित उपखण्ड मजिस्टे्रट द्वारा सुबह 6 बजे से रात्रि 10 बजे तक प्रसारण यंत्र के उपयोग के लिए दी जा सकेगी। ऐसे आयोजनों में कोई इस प्रकार का कृत्य नहीं करेगा, जिससे यातायात व्यवस्था, जन व्यवस्था एव जन शांति विक्षुब्ध हो। यह प्रतिबंध बारात एवं शव यात्रा में लागू नहीं होगा। 
               आदेशानुसार कोई भी व्यक्ति सांप्रदायिक सद्भावना को ठेस पहुंचाने वाले तथा उत्तेजनात्मक नारे नहीं लगाएगा और ना ही ऐसेा कोई भाषण एवं उद्बोधन देगा और ना ही ऐसे किसी पम्पलेट, पोस्टर या अन्य प्रकार की चुनाव सामग्री छपेगा या छपवाएगा, वितरण करेगा या करवाएगा और न किसी एम्पलीफायर, रेडियो, टेप रिकॉर्डर, लाउड स्पीकर, ऑडियो-वीडियो कैसेट या अन्य किसी इलेक्ट्रानिक उपकरणों के माध्यम से इस प्रकार का प्रचार प्रसार करेगा अथवा करवाएगा। ऐसे कृत्यों के लिए न ही किसी को दुष्प्रेरित करेगा। इसके अलावा कोई भी व्यक्ति या संस्था इंटरनेट तथा सोशल मीडिया यथा फेसबुक, टिविटर, व्हाट्सअप, यू टयूब आदि के माध्यम से किसी प्रकार का धार्मिक उन्माद जातिगत द्वेष या दुष्प्रचार नहीं करेगा। 
                निषेधाज्ञा अवधि में कोई भी किसी के समर्थन या विरोध में सार्वजनिक एवं राजकीय सम्पत्तियों पर किसी तरह का नारा-लेखन या प्रति चित्रण नहीं करेगा, न ही करवाएगा औश्र न ही किसी तरह के पोस्टर, होर्डिंग लगाएगा और न ही सार्वजनिक सम्पत्तियों का विरूपण करेगा व  करवाएगा। किसी भी निजी सम्पत्ति का उक्त प्रयोजनार्थ उपयोग उसके स्वामी की लिखित पूर्वानुमति के बिना नहीं किया जा सकेगा। कोई भी व्यक्ति किसी भी सार्वजनिक स्थान पर मदिरा का सेवन नहंी करेगा, न ही अन्य किसी को सेवन करवाएगा अथवा न ही मदिरा सेवन के लिए दुष्प्रेरित करेगा तथा अधिकृत विक्रेताओं के अलावा कोई भी व्यक्ति निजी उपयोग के अलावा अन्य उपयोग के लिए सार्वजनिक स्थलों में मदिरा लेकर आवागमन नहीं करेगा और न ही इसके लिए किसी को दुष्प्रेरित करेगा। सूखा दिवस पर मदिरा विक्रय पूर्णत: प्रतिबंधित रहेगा। 
               आदेशानुसार कोई भी व्यक्ति चुनाव प्रचार या प्रसार के लिए वाहनों से यातायात बाधित नहीं करेगा, ना ही करवाएगा। संबंधित उपखण्ड मजिस्टे्रट की लिखित पूर्व अनुमति के बिना कोई भी व्यक्ति ध्वनि प्रसारण यंत्र लगे किसी भी प्रकार के वाहन का प्रयोग नही करेगा और न करवाएगा। किसी  भी मंदिरों, मस्जिदों, गुरूद्वारों, गिरिजाघरों या अन्य धार्मिक स्थानों का निर्वाचन प्रसार मंच के रूप में प्रयोग नहीं किया जाएगा। कोई भी व्यक्ति मतदान दिवस के दिन मतदान केन्द्र एवं मतगणना दिवस पर मतगणना केन्द्र से दो सौ मीटर की परिधि के अंदर किसी भी तरह के मोबाइल फोन, सेलफोन, वायर लैस का उपयोग नहीं करेगा, न ही लेकर चलेगा। यह प्रतिबंध चुनाव ड्यूटी में लगे पुलिस अधिकारियों, कर्मचारियों पर लागू नहीं होगा। मतदान के दिवस मतदाताओं को वाहनों से मतदान केन्द्रों तक ले जाने और वहां से वापस लाने पर पूर्णत: रोक रहेगी। निर्वाचन विभाग के निर्देशानुसार मतदान के दिन चिह्नित दिव्यांग मतदाताओं को उनके घर से मतदान केन्द्र तक लाने व वापिस छोडने के लिए उपयोग लाई जाने वाले राजकीय वाहन इस आदेश से प्रतिबंधित नहीं होंगे। आदेशों की अवहेलना या उल्लंघन किए जाने पर भारतीय दण्ड संहिता की धारा 188 के तहत दण्डित करवाया जाएगा। 

    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment