• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • टीम वर्क के साथ समय सीमा में लक्ष्य पूर्ण करना हमारी जिम्मेदारी: कलेक्टर | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    टीम वर्क के साथ समय सीमा में लक्ष्य पूर्ण करना हमारी जिम्मेदारी: कलेक्टर


    भिण्ड 04/01/2019 (rubarudesk) @www.rubarunews.com>> कलेक्टर छोटे सिंह की उपस्थिति में विश्व स्वास्थ्य संगठन के प्रयासों से राष्ट्रीय टीकाकरण अभियान के अन्तर्गत मीजल्स एवं रूबेला एमआर के संबंध में जिला स्तरीय टास्क फोर्स की बैठक का आयोजन कलेक्टर सभागार में किया गया। बैठक में सीएमएचओ डॉ. जेपीएस कुशवाह, जिले के बीएमओ एवं शिक्षा विभाग के बीआरसी उपस्थित थे। कलेक्टर ने बैठक में कहा कि जिले में 15 जनवरी से मीजल्स रूबेला अभियान चलाया जाएगा। इस अभियान के अंतर्गत खसरा तथा रूबेला से सुरक्षा प्रदान करने के लिए खसरा रूबैला एमआर का टीका जिले के सभी शासकीय एवं अशासकीय स्कूलों, आंगनवाडिय़ों तथा सरकारी स्वास्थ्य केन्द्रों में 9 माह से 15 वर्ष तक की आयु के सभी बच्चों में लगाया जाएगा। उन्होंने कहा कि इस अभियान से जुड़े हुये सभी विभाग यह सुनिश्चित करें कि शहरी क्षेत्र के साथ दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्रों में भी सघन प्रचार प्रसार किया जाये। उन्होंने कहां की प्रशिक्षण में सभी फं्रट लाईन वर्करों को पूर्णत: दक्ष किया जाये जिससे किसी भी प्रकार की प्रतिकूल परिस्थितियों को नियंत्रित कर सके। सीएमएचओ जेपीएस कुशवाह ने बताया कि रूबेला के संक्रमण में गर्भवती महिलाओं का बच्चा अपंग हो सकता है, अनचाहा गर्भपात, स्टिल बर्थ एवं सीरियस बर्थ इफेक्ट हो सकता है। उन्होंने कहा कि 9 माह से 15 वर्ष के बच्चों में मीजल्स एवं रूबेला वायरस का प्रकोप अधिक रहता है। लगभग 95 प्रतिशत इस उम्र के बच्चे इससे प्रभावित हो सकते है। यदि इन्हें अभी नहीं रोका गया तो यह बीमारी किशोरों एवं व्यस्कों की बीमारी में परणित हो सकती है। विश्व स्वास्थ्य संगठन समन्वयक डॉक्टर ने पावर प्वाइंट प्रजेन्टेशन के माध्यम से मीजल्स एवं रूबेला के वायरस संक्रमण को प्रदर्शित किया और बताया कि हम सब मिलकर यह प्रयास करें कि 2020 तक खसरा की बीमारी से निजात दिलाई जा सके एवं रूबेला की बीमारी नियंत्रित की जा सके। उन्होंने कहा कि गर्भवती माताओं के प्रसव काल के प्रराभिंक अवस्था में रूबेला वायरस के संक्रमण से अनचाहा गर्भपात, मृत बच्चों का जन्म आदि घटनायें हो सकती है। इसके लिये सभी सम्मिलित विभाग एकजुट होकर आंगनबाड़ी केन्द्र, स्कूलों में बच्चों को मीजल्स एवं खसरा की संयुक्त वैक्सीन लगाने हेतु प्रभावी कार्ययोजना बनायें और 9 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों को घातक बीमारी से बचायें। जिला टीकाकरण अधिकारी डॉ. पवन जैन ने बताया कि जिले में 9 माह से 15 वर्ष तक के आयु के लगभग 5 लाख बच्चे चिन्ह्ति किये गये है। जिन्हें मीजल्स रूबेला का टीकाकरण इस अभियान के तहत लगया जाना है। शासन द्वारा दिये गये निर्देशानुसार यह अभियान क्रमबद्ध चलेगा, जिसमें प्रथम दो सप्ताह स्कूलों में एवं शेष दो सप्ताह आंगनबाड़ी केन्द्रों में तथा अंतिम एक सप्ताह छूटे हुये बच्चों को टीका लगाया जायेगा। विश्व स्वास्थ्य संगठन से डॉ. राजावत ने बताया कि 9 माह से 15 वर्ष तक के बच्चों को खसरा एवं रूबेला की बीमारी से निजात दिलाने हेतु नई वैक्सीन लगाई जायेगी। आयोजित बैठक में खसरे की बीमारी को 2020 तक समाप्त करने एवं रूबेला संक्रमण नियंत्रण करने की शपथ भी कलेक्टर ने उपस्थित व्यक्तियों को दिलाई

    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment