• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • नैतिक और जिम्मेदार नेतृत्व समय की जरूरत है: उपराष्ट्रपति | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    नैतिक और जिम्मेदार नेतृत्व समय की जरूरत है: उपराष्ट्रपति


    नईदिल्ली 06/02/2019 (rubarudesk) @www.rubarunews.com>> उपराष्ट्रपति श्री एम. वेंकैया नायडू ने कहा कि नैतिक और जिम्मेदार नेतृत्व समय की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जमीनी हकीकत को समझना, आम जनता के साथ बातचीत करना और युवाओं की बदलती हुई आकांक्षाओं का पता लगाना सार्वजनिक जीवन में आकांक्षा रखने वाले लोगों के लिए बहुत महत्वपूर्ण है।
           श्री नायडू आज थाणे (महाराष्ट्र) आधारित रामभाऊ म्हालगी प्रबोधिनी (आरएमपी) द्वारा स्थापित इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ डेमोक्रेटिक लीडरशिप के छात्रों के साथ बातचीत कर रहे थे। उन्होंने सार्वजनिक जीवन में भविष्य बनाने वाले छात्रों की जरूरत पर जोर देते हुए कहा कि इसके लिए प्रत्येक संस्थान की भूमिका, जिम्मेदारी और लोकतंत्र में उनकी कार्यप्रणाली के महत्व की अच्छी समझ की जरूरत है। भारत के लोकतंत्र में विभिन्न आकांक्षाओं वाली 130 करोड़ से भी अधिक की आबादी शामिल हैं।
             उपराष्ट्रपति ने कहा कि लोगों के जीवन में बदलाव लाने के लिए एक ईमानदार सरकारस्पष्ट विजन और प्रतिबद्ध नेतृत्व की जरूरत है। उन्होंने इंस्टीट्यूट ऑफ डेमोक्रेटिक लीडरशिप जैसे विश्वविद्यालयोंकॉलेजों और संस्थानों से छात्रों में उनके स्कूल के दिनों से ही ऐसे गुणों को विकसित करने का आग्रह किया।
    श्री नायडू ने कहा कि छात्रों को लोकतांत्रिक गणराज्य की कार्यप्रणाली को समझाने और उन्हें संसदीय प्रणाली से परिचित कराना भी बहुत आवश्यक है।
             श्री नायडू ने कहा कि एक जागरूक नागरिकएक जीवंत और जिम्मेदार समाजएक मजबूत संस्थागत ढांचा और जिम्मेदार नौकरशाही देश को भूख से मुक्त बनानेअत्याचारों से मुक्त करनेअसमानताओं से मुक्त करने और जातिलिंग और धर्म आधारित भेदभाव से मुक्त करने की दिशा में भारत का महत्वपूर्ण प्रयास है।
              उपराष्ट्रपति ने देश के दूरदराज के हिस्से में रहने वाले अंतिम व्यक्ति को भी किसी परेशानी से मुक्त सेवा सुनिश्चित करने के लिए हमारी शासन प्रणालियों में प्रौद्योगिकी को शामिल करने वाली प्रणालियों को मजबूत बनाने की जरूरत पर जोर दिया। उन्होंने  इच्छा जाहिर की कि युवा आधुनिक दुनिया में उभर रही नई-नई चुनौतियों का समाधान तलाशने के लिए प्रौद्योगिकी और नवाचार को अपनाएं।
    उन्होंने युवाओं से अपने मस्तिष्क को लोकतांत्रिक बनाने के कहा, जो नए विचारों को ग्रहण करे और दूसरों के विचारों के प्रति सहिष्णु भी हो। लोकतंत्र को सफल बनाने के लिए जनता के जनादेश का सम्मान करना भी महत्वपूर्ण है। हमें इसका सम्मान करना सीखना चाहिए।
    इस अवसर पर सांसद (राज्यसभा) डॉ. विनय सहस्रबुद्धे और अन्य गणमान्य व्यक्ति भी उपस्थित थे।


    Share on Google Plus

    About Rubaru News

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment