• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • लोकसेवक द्वारा विधि की अवज्ञा करने पर संज्ञेय अपराध माना जावेगा - गर्ग डीपीओ | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    सम्पर्क करे

    उमेश सक्सेना मो‌‌‌‌ 8269564898

    लोकसेवक द्वारा विधि की अवज्ञा करने पर संज्ञेय अपराध माना जावेगा - गर्ग डीपीओ

    दतिया (RamjisharanRai) @www.rubarunews.com~पुलिस अधिकारियों को महिलाओं पर होने वाले अपराधों के प्रति संवेदनशील बनाने हेतु दो दिवसीय उन्मुखीकरण कार्यशाला का आयोजन पुलिस कंट्रोल रूम में पुलिस मुख्यालय भोपाल के निर्देशन व पुलिस अधीक्षक डी. कल्याण चक्रबर्ती के मार्गदर्शन में महिला प्रकोष्ठ दतिया द्वारा किया गया।
                          कार्यशाला में स्रोत व्यक्ति के रूप में  डी.पी.ओ. पुष्पेंद्र कुमार गर्ग, डॉ. सतीश मान एफएसएल अधिकारी, सामाजिक कार्यकर्ता रामजीशरण राय बालमित्र, सदस्य जिला पुलिस परिवार परामर्श केन्द्र,  शाहजहाँ कुरैशी नाज संस्था, घनश्याम पाठक, जितेन्द्र सगर फिंगर प्रिंट आदि उपास्थित रहे।
                            आयोजित प्रशिक्षण में डॉ. सतीश मान ने प्रस्तुतिकरण में विभिन्न प्रकार की घटनाओं के साक्ष्य एकत्र करने में बरती जाने वाली बारीकियों की जानकारी देते हुए फोरेंसिक संबंधी विन्दुओ पर रेल कटिंग, जलने से, पानी मे डूबने से, फांसी पर लटककर हुई मृत्यु में किस प्रकार साक्ष्य एकत्र करना है बताया। एंटीमार्टम व पोस्टमार्टम को व्यापक रूप से बताया। एफएसएल अधिकारी डॉ. सतीश मान ने मेडिकल प्रपत्र में चाही गयी जानकारी भरने हेतु सावधानी बताई।साथ ही शव विच्छेदन प्रतिवेदन में चिकित्सक से आवश्यक वी एस स्लाइड, प्राइवेट पार्ट, गर्भाशय की जाँच के बारे में बताया गया।
    जिला अभियोजन अधिकारी पुष्पेंद्र कुमार गर्ग ने उन्मुख करते हुए कानूनी विन्दुओं पर व्यापक जानकारी देते हुए महिलाओं संबंधी कानूनों में संशोधन की जानकारी दी। 
                  महिला प्रकोष्ठ प्रभारी नेहा शर्मा ने प्रशिक्षण के उद्देश्य बताते हुए स्रोत व्यक्तियों का परिचय कराया। उन्होंने प्रतिभागियों के प्रश्नों के उत्तर दिये। जितेन्द्र सगर फिंगर प्रिंट द्वारा बारीक जानकारी दी।
                   वरिष्ठ समाजसेवी रामजीशरण राय बालमित्र/ पैरालीगल वॉलेंटीयर ने गर्भधारण पूर्व एवं प्रसव पूर्व निदान तकनीकि अधिनियम 1994, एम.टी.पी. एक्ट, घरेलू हिंसा से महिलाओं का संरक्षण अधिनियम 2005 के कानूनी  संबन्धित जानकारी देते हुए लैंगिक अपराधों से बालकों संरक्षण अधिनियम 2012 के साथ ही महिला अधिकारों की जानकारी देते हुए  स्थानीय परिवाद समिति, आन्तरिक परिवाद समिति गठन करने की वैधानिक प्रक्रिया बताई गई। साथ ही महिला मुद्दों पर संवेदनशीलता बढ़ाने हेतु स्थानीय उदाहरण देने हेतु उन्मुखीकरण किया।
                        शाहजहाँ कुरैशी नाज समाजसेवी संस्था ने कार्यस्थल पर यौन हिंसा अधिनियम 2013 व वन स्टॉप सेंटर की व्यापक जानकारी दी। सेवा निवृत्त डीएसपी घनश्याम पाठक ने जांच के दौरान बरती जाने वाली सावधानियों को बताया। 
                          प्रशिक्षण में जिले में पदस्थ विभिन्न थानों के पुलिस अधिकारी उपस्थित रहे। इस अवसर पर नेहा शर्मा राजेन्द्र रजक, रवि राजावत सहित महिला प्रकोष्ठ स्टाफ उपस्थित रहा।
    Share on Google Plus

    About www.rubarunews.com

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment