• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • जिला कलेक्टर और एसएपी ने 'अपनी बात के जरिए बढ़ाया छात्राओं का हौसला | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    जिला कलेक्टर और एसएपी ने 'अपनी बात के जरिए बढ़ाया छात्राओं का हौसला


    बून्दी 4/अप्रेल/2019 (KrishnaKantRathore) @www.rubarunews.com>> बूंदी की बेटियों के लिए शुरू की गई खास पहल 'अपनी बात के अन्तर्गत गुरूवार को तालेड़ा के कस्तूरबा गांधी विद्यालय में जिला कलेक्टर रुक्मणि रियार एवं पुलिस अधीक्षक ममता गुप्ता ने छात्राओं से विभिन्न विषयों पर बातचीत कर हौसला अफजाई की। 
          अपनी बात के जरिए जिला कलेक्टर ने जीवन के लक्ष्यों को जानने से संबंधित बात की। जिला कलेक्टर ने छात्राओं को बताया कि 'रास्ता कठिन हो लेकिन कड़ी मेहनत से निश्श्ति रूप से सफल होते है। उन्होंने नारी की दोहरी शक्ति अर्थात घर एवं बाहर के काम को बेहतर तरीके से करने की क्षमता के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि महिला अपने आप को पुरूष से कम नहीं माने। उन्होंने  हर समस्या से लडऩे के बारे में समझाया।
           जिला कलेक्टर ने छात्राओं को आईएएस बनने के लिए सरकार की विभिन्न योजनाओं का लाभ उठाते हुए अच्छी पढाई करने के लिए प्रेरित किया। इस दौरान बाल विवाह के संदर्भ में भी चर्चा की। कलेक्टर मैडम ने बालिकाओं को जागरूक करते हुए जीवन में गलतियों से सीखने की बात कहते हुए लडकियों को सदैव सजग बने रहने की शिक्षा दी। एसपी ने विद्यालय समय के बाद 6 घंटे पढाई करने की उपयोगिता बताई।  
          पुलिस अधीक्षक ममता गुप्ता ने बालिकाओं की पढाई, मन के विभिन्न विचारों और बालिकाओं की  किशोरावस्था से जुडी समस्याओं के सवालों पर बात की। छात्राओं ने पुलिस अधीक्षक से मित्रवत बातचीत कर अलग अलग विषयों पर चर्चा की। एसपी द्वारा लडकियों को पूरी लगन और मेहनत से पढाई करने पर बल दिया। बालिकाओं तथा महिलाओं के अधिकारों के बारे में बताया। उन्होंने कहा कि महिलाओं को किसी भी प्रकार की हिंसा होने पर पुलिस से मदद लेने की जानकारी दी। साथ ही न्यायिक सेवा के लिए लॉ करने व आरजेएस की परीक्षा तथा प्रक्रिया बताई। 
           बालिकाओं ने जिला कलक्टर व पुलिस अध्ीाक्षक सेे नौकरी और घर के काम के साथ कैसे समायोजन हो, आप ने कलक्टर बनने का कब सोचा, बेटियों को घर वालों के साथ साथ बाहर वालों की भी रोक टोक रहती है इन परिस्थितियों के साथ कैसे समायोजन करें, क्या बचपन से ही पुलिस की तैयारी की थी, बालिकाओं के अधिकार क्या क्या है, जज बनने के लिए क्या करना होता है आदि विभिन्न प्रकार के प्रश्न पूछे। 
             जिला शिक्षा अधिकारी तेज कंवर ने विभिन्न स्कॉलरशिप संबंधित जानकारी दी। उन्होंने बताया कि मुख्यमंत्री बालिका योजना तथा जिले में टॉप रहने वाली छात्राओं को सरकार द्वारा आजीवन शिक्षा हेतु विभिन्न सुविधाएं उपलब्ध करवाऐ जाने की जानकारी दी। साथ ही इंजीनियर बनने के लिए दी जाने वाली स्कॉलरशिप की जानकारी दी गई। ऑंठवी कक्षा की छात्राओं को भी कंपीटिशन के द्वारा 3 हजार स्कॉलरशिप राशि दी जाने के लिए भी जानकारी दी। इस अवसर पर राजकीय बालिका उच्च माध्यमिक विद्यालय तालेडा की प्रधानाचार्या कांता बावा उपस्थित रही।  


    Share on Google Plus

    About www.rubarunews.com

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment