• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • मुलायम सिंह यादव को निर्विरोध जिताने की योजना विफल, वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल के प्रत्याशी ने किया नामांकन | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    मुलायम सिंह यादव को निर्विरोध जिताने की योजना विफल, वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल के प्रत्याशी ने किया नामांकन


    मैनपुरी (Ankit Tiwari) @www.rubarunews.com>> वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल ने एक विज्ञप्ति जारी करके बताया है कि कहा है कि जिस प्रकार सन 2012 के उपचुनाव में मुलायम सिंह यादव की बहू डिंपल यादव कन्नौज से निर्विरोध निर्वाचित हुई थी, उसी प्रकार इस बार मुलायम सिंह यादव को निर्विरोध निर्वाचित होने का रास्ता भाजपा, कांग्रेस, बसपा ने एक बार फिर खोल दिया है। किंतु वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल ने तय किया है कि वह उत्तर प्रदेश की मैनपुरी लोकसभा सीट से मुलायम सिंह यादव को निर्विरोध नहीं होने देगी। अपने इसी नीति के तहत पार्टी ने अपना प्रत्याशी उतार दिया है पार्टी के प्रत्याशी ने निर्वाचन अधिकारी के समक्ष उपस्थित होकर अपना नामांकन पत्र प्रस्तुत किया। 
                प्रत्याशियों और प्रस्तावकों के अपहरण के अंदेशे के बीच यह नामांकन की कार्यवाही सफलतापूर्वक संपादित हो गई है। वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल, उत्तर प्रदेश कमेटी के उपाध्यक्ष और मैनपुरी निवासी सादेश अली मशीह ने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी करके बताया है कि इसी तरह सन 2012 में कन्नौज लोकसभा सीट के लिए उपचुनाव हुआ था। उस समय जबरदस्ती निर्विरोध निर्वाचन करने के लिए उनके सहित वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल के कई कार्यकर्ताओं सेहतपुर सभी लोगों का अपहरण कर लिया गया था  जो लोग  नामांकन करने निर्वाचन  अधिकारी के कार्यालय तक पहुंचे थे। किसी को भी नामांकन नहीं करने दिया गया था। इस ऐतिहासिक अपराध में मीडिया, पुलिस प्रशासन और सिविल प्रशासन को पूरी तरह पंगु बना दिया गया था। वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल ने इस मामले में पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव और डिंपल यादव तथा अपहरण के अन्य आरोपियों पर इलाहाबाद उच्च न्यायालय, सर्वोच्च न्यायालय, मानवाधिकार आयोग और केंद्रीय गृह मंत्रालय में कई मुकदमे दाखिल हुए थे. इस मामले में राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग के आदेश पर उत्तर प्रदेश की क्राइम ब्रांच ने जांच किया। अभी तक यह मामला 6 साल बाद भी चल रहा है। उस समय भी कांग्रेस, भाजपा और बसपा ने समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी और मुलायम सिंह यादव के बहू डिंपल यादव का साथ दिया था। इस बार भी इन तीनों पार्टियों ने मुलायम सिंह को निर्विरोध जिताने की योजना के तहत मैनपुरी से अपने अपने प्रत्याशी न उतारने का फैसला किया है। वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल ने इस घटना को लोकतंत्र के साथ एक मजाक करार दिया है। 
              पार्टी का कहना है यदि भारतीय जनता पार्टी और अन्य पार्टियों को समाजवादी पार्टी से इतना ही प्रेम है, तो ये सभी लोग मिलकर एक ही पार्टी में विलय क्यों नहीं कर लेते? विज्ञप्ति में सवाल उठाया गया है कि आखिर भाजपा  द्वारा समाजवादी पार्टी के अपराध के खिलाफ जनता से वोट मांगना और समाजवादी पार्टी के मुखिया के खिलाफ चुनाव में प्रत्याशी न उतारना क्या मतकर्ताओं को धोखा देना नहीं है? पार्टी ने फैसला किया है कि समाजवादी पार्टी के अपराधियों के खिलाफ वोटर्स पार्टी इंटरनेशनल अदालतों में तो लड़ेगी ही, जनता की अदालत में भी उतनी ही मजबूती से लड़ेगी और एक दिन उत्तर प्रदेश को समाजवादी पार्टी के अपराधों से मुक्त करके ही दम लेगी। क्योंकि मुलायम सिंह के परिवार ने समाजवाद को पूरी तरह पूरे देश में बदनाम किया है। इंदिरा गांधी के वंशवाद के खिलाफ शुरू हुई यह पार्टी अब देश में वंशवाद का सबसे बड़ा उदाहरण है। सुप्रीम कोर्ट में वकीलों का एक पैनल बनाने के बाद वीपीआई की केंद्रीय कमेटी ने फैसला किया है कि अगर कन्नौज की तरह मैनपुरी का चुनाव निर्विरोध करने के लिए शासन प्रशासन द्वारा और समाजवादी पार्टी के गुंडों द्वारा आपराधिक वारदात की गई, या नामांकन रद्द कराने के लिए साजिश  किया गया तो इसका खामियाजा मुलायम सिंह यादव को और उनके परिवार को अदालत में भुगतना पड़ेगा।

    Share on Google Plus

    About www.rubarunews.com

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment