• --New-- Click here to Watch News channel online.
  • कुपोषण निदान की दिशा में पढ़ा लिखा होना जरूरी - कलेक्टर समाज एकजुट होकर कुपोषण के विरूद्ध जंग लड़े- सीईओ 84 सहरिया महा पंचायत का पोषण संवाद आयोजित | Rubaru news
    Powered by Blogger.

    कुपोषण निदान की दिशा में पढ़ा लिखा होना जरूरी - कलेक्टर समाज एकजुट होकर कुपोषण के विरूद्ध जंग लड़े- सीईओ 84 सहरिया महा पंचायत का पोषण संवाद आयोजित

     श्योपुर, 20 सितंबर 2019
    कलेक्टर श्री बसंत कुर्रे ने कहा है कि प्रदेश सरकार सहरिया समुदाय के उत्थान की दिशा में निरंतर कार्य कर रही है। साथ ही विभिन्न योजनाओं के अंतर्गत लाभांवित करने की दिशा में कदम उठाए जा रहे हैं। इसलिए सहरिया समुदाय कुपोषण निदान की दिशा में जागरूक होकर अपने बच्चों की पढ़ाई लिखाई पर अवश्य ध्यान दें। जिससे वे पढ-लिखकर तरक्की की राह पकड़ने में सक्षम बन सके। वे आज राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत निषादराज भवन पर राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत 84 सहरिया महा पंचायत के पोषण संवाद कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे।  
      कार्यक्रम में जिला पंचायत के सीईओ श्री हर्ष सिंह, यूनिसेफ के चीफ फील्ड आॅफिसर श्री माइकल जूमा, कम्यूनिकेशन फोर डवलपमेंट के श्री संजय सिंह, न्यूट्रिशिएन स्पेस्लिस्ट डाॅ. समीर पवार, कम्यूनीकेशन फाॅर डवलपमेंट कंसलटेंट श्री प्रवीन शर्मा, रीजनल न्यूट्रिशन कंसलटेंट श्री सोमेश सांतवान, सहरिया महापंचायत के अध्यक्ष श्री टुण्डाराम लांगूरिया, महात्मा गांधी सेवा आश्रम के संचालक श्री जयसिंह जादौन, डीपीओ महिला बाल विकास श्री ओपी पाण्डे, जिला महिला सशक्तिकरण अधिकारी श्री रिशु सुमन, अन्य विभागीय अधिकारी एवं 84 पंचायतों के सहरिया महिला पुरूष उपस्थित थे।  

    कलेक्टर श्री बसंत कुर्रे ने कार्यक्रम को संबोधित करते हुए कहा कि राष्ट्रीय पोषण कार्यक्रम के अंतर्गत कुपोषण निदान की दिशा में अलख जगाई जा रही है। जिसमें महिला बाल विकास, स्वास्थ्य, यूनिसेफ, समाजसेवी संस्थाएं, गांधी सेवा आश्रम के द्वारा सहरिया समाज के महिला-पुरूषों को अपने बच्चों के पालन पोषण की दिशा में शिक्षा, स्वास्थ्य पर ध्यान देते हुए कमजोर बच्चों की ग्रेड सुधारने की दिशा में समझाइश दी जा रही है। उन्होंने कहा कि आदिवासी क्षेत्रों मंे कुपोषण निदान की दिशा में कमजोर बच्चों को एनआरसी केंद्र में भर्ती कराने की कार्यवाही निरंतर चल रही है। साथ ही बच्चों की ग्रेड सुधार की दिशा में कदम उठाए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि सहरिया समाज शिक्षित होगा तब कुपोषण स्वतः ही दूर होगा। साथ ही कमजोर बच्चों को पोषित कराने में सहायक होंगे। उन्होंने कहा कि घर का वातावरण शुद्ध रखते हुए साफ-सफाई व्यवस्था पर अधिक ध्यान दिया जावे। जिससे महिला, पुरूष और बच्चों के स्वास्थ्य पर अच्छा प्रभाव रहेगा। कलेक्टर ने अनुरोध किया कि सहरिया समाज के महिला-पुरूष अपने बच्चों की पढ़ाई लिखाई पर विशेष ध्यान दे। जिससे बच्चे पढ़ लिखकर उच्च से उच्च पदों पर आसीन होने में सहायक बन सके।
      जिला पंचायत के सीईओ श्री हर्ष सिंह ने कार्यक्रम में विचार व्यक्त करते हुए कहा कि सहरिया समाज के महिला पुरूष अपने बच्चों के पालन-पोषण में विशेष ध्यान दें। साथ ही कमजोर बच्चों की ग्रेड सुधारने की दिशा में एनआरसी केंद्र में भर्ती करावे। जिससे वहां पर उपचार के बाद बच्चा स्वस्थ्य होकर पोषित बन सके। उन्होंने कहा कि सहरिया समुदाय कुपोषण के विरूद्ध जंग लड़े साथ ही बच्चों को पोषित करने की दिशा में कदम उठावे। जिससे कुपोषण से निजात अवश्य मिलेगी।
      पोषण संवाद महापंचायत में यूनिसेफ के चीफ फील्ड आॅफिसर श्री माइकल जूमा, कम्यूनिकेशन फोर डवलपमेंट के श्री संजय सिंह, न्यूट्रिशिएन स्पेस्लिस्ट डाॅ. समीर पवार, कम्यूनीकेशन फाॅर डवलपमेंट कंसलटेंट श्री प्रवीन शर्मा, रीजनल न्यूट्रिशन कंसलटेंट श्री सोमेश सांतवान, सहरिया महापंचायत के अध्यक्ष श्री टुण्डाराम लांगूरिया, महात्मा गांधी सेवा आश्रम के संचालक श्री जयसिंह जादौन, डीपीओ महिला बाल विकास श्री ओपी पाण्डे ने कुपोषण निदान की दिशा में अपने-अपने विचार व्यक्त किए।
      कलेक्टर श्री बसंत कुर्रे ने राष्ट्रीय पोषण माह के अंतर्गत निषादराज भवन पर आयोजित सहरिया महापंचायत में उपस्थित 84 पंचायतों के सहरिया महिला पुरूषों, विभागीय अधिकारी/कर्मचारियों को कुपोषण निदान की दिशा में शपथ दिलाई। इसके उपरांत कुपोषण निदान की दिशा में सहरिया समुदाय के महिला पुरूषों के समक्ष कार्यक्रमों की प्रस्तुति दी गई।
    Share on Google Plus

    About www.rubarunews.com

    This is a short description in the author block about the author. You edit it by entering text in the "Biographical Info" field in the user admin panel.
      Blogger Comment
      Facebook Comment

    0 comments:

    Post a Comment